Home खास खबर ‘कसम खाओ कि…’, पर्स से 35 रुपये गायब होने पर बच्चों को लेकर मंदिर जाने वाली टीचर का ट्रांसफर

‘कसम खाओ कि…’, पर्स से 35 रुपये गायब होने पर बच्चों को लेकर मंदिर जाने वाली टीचर का ट्रांसफर

2 second read
Comments Off on ‘कसम खाओ कि…’, पर्स से 35 रुपये गायब होने पर बच्चों को लेकर मंदिर जाने वाली टीचर का ट्रांसफर
0
11

‘कसम खाओ कि…’, पर्स से 35 रुपये गायब होने पर बच्चों को लेकर मंदिर जाने वाली टीचर का ट्रांसफर

 बांका जिले में एक टीचर ने अपने पर्स से 35 रुपये गायब होने पर बच्चों को लेकर मंदिर पहुंच गई। मंदिर में टीचर ने बच्चों से कसम खाने को कहा कि उन्होंने उसके पैसे नहीं चुराए हैं। जब मामला शिक्षा विभाग तक पहुंचा तो आरोपी टीचर का ट्रांसफर कर दिया गया।

बिहार से चौंकाने वाला मामला सामने आया है। यहां एक महिला टीचर के पर्स से 35 रुपये गायब हो गए, जिसके बाद वह स्कूली बच्चों को एक मंदिर पर लेकर गई और उनसे भगवान की शपथ लेने को कहा कि उन्होंने पर्स से पैसे चोरी नहीं किए हैं। जब यह मामला शिक्षा विभाग के संज्ञान में आया तो उसने आरोपी टीचर का ट्रांसफर कर दिया।

बांका जिले का है मामला

बता दें कि यह मामला बांका जिले के एक प्राथमिक स्कूल का है। यहां पर एक महिला टीचर के पर्स से 35 रुपये गायब हो गए, जिस पर वह बच्चों को लेकर मंदिर गई और उनसे शपथ लेने को कहा कि उन्होंने रुपये नहीं चुराए हैं। इस मामले के सामने आने के बाद लोगों ने इस पर आपत्ति जताते हुए स्कूल परिसर में जमकर हंगामा किया। उन्होंने चेतावनी दी कि अगर टीचर पर कार्रवाई नहीं की गई तो वे स्कूल नहीं चलने देंगे।

21 फरवरी की घटना

बताया जाता है कि यह घटना 21 फरवरी को रजौन ब्लॉक के असमानीचक गांव में स्थित एक स्कूल में हुई। टीचर का नाम नीतू कुमारी है। उन्होंने एक छात्र से अपने पर्स में रखी पानी की बोतल लाने को कहा। इसके बाद जब उन्होंने अपना पर्स चेक किया तो उससे 35 रुपये गायब थे। इसके बाद वे छात्रों को लेकर मंदिर गईं और उन्हें कसम खाने को कहा।

 

BEO ने क्या कहा?

ब्लॉक शिक्षा अधिकारी (BEO) कुमार पंकज ने कहा कि टीचर का यह व्यवहार अनुचित है। किसी भी छात्र पर इस तरह से संदेह करना ठीक नहीं है। हमने टीचर का ट्रांसफर कर दिया है।

महिला टीचर ने क्या कहा?

मामले में अपना पक्ष रखते हुए महिला टीचर ने कहा कि मैंने छात्रों से अपने गायब हुए रुपयों के बारे में पूछताछ की थी। वे खुद ही कसम खाने के लिए मंदिर की ओर दौड़ पड़े थे। टीचर ने कहा कि मैं लोगों का व्यवहार देखकर हैरान हूं। मैं यहां पिछले 18 साल से पढ़ा रही हूं। मैं अपने ही छात्रों पर कैसे शक कर सकती हूं।

 

Load More Related Articles
Load More By Seemanchal Live
Load More In खास खबर
Comments are closed.

Check Also

पिता लालू का गढ़ रही सारण सीट जीत पाएंगी रोहिणी? चुनौतियां कम नहीं

पिता लालू का गढ़ रही सारण सीट जीत पाएंगी रोहिणी? चुनौतियां कम नहीं सारण लोकसभा चुनाव 2024:…